ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज डर रहे थे, भारत ने इसका फायदा उठाया: मैक्ग्रा

1 month ago 34

भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच टेस्ट सीरीज 1-1 से बराबर है। सभी की नजरें तीसरे टेस्ट पर हैं। फैंस 7 जनवरी से सिडनी में होने वाले इस मैच को सोनी टेन-3 पर सुबह 5 बजे से देख सकते हैं। पूर्व ऑस्ट्रेलियन तेज गेंदबाज ग्लेन मैक्ग्रा को इस मुकाबले के रोमांचक होने की उम्मीद है। उनका मानना है कि मेजबान बल्लेबाज भारतीय गेंदबाजी के आगे बचते हुए दिखाई दे रहे हैं। वे दूसरे टेस्ट में डर रहे थे और उन पर हावी नहीं हो सके। भारतीय टीम ने इसका पूरा फायदा उठाया। पेश है मैक्ग्रा के साथ बातचीत के अंश..

.पहले टेस्ट में टीम इंडिया 36 पर सिमट गई थी। लेकिन दूसरे में शानदार वापसी कर जीती। आप भारतीय बॉलिंग को कैसे आंकते हैं?

भारत ने दूसरे टेस्ट की दोनों पारियों में शानदार प्रदर्शन किया। रहाणे ने मौकों को भुनाया। वे कप्तानी का मजा ले रहे हैं। जिस तरह से उन्होंने बल्लेबाजी की, वो काफी मजबूत दिखे। एडिलेड टेस्ट के मुकाबले वे ज्यादा फोकस्ड थे। गेंदबाजों ने भी अच्छा प्रदर्शन किया। ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज डरे दिखे। वे गेंदबाज पर हावी होने के बजाए बचते हुए नजर आ रहे थे। भारत ने इसका फायदा उठाया। उन्होंने जो बदलाव किए थे, वो उनके पक्ष में रहे।

मौजूदा परिदृश्य में कौन सा भारतीय गेंदबाज आपको सबसे ज्यादा प्रभावित करता है?

भारतीय गेंदबाजी इस समय कमाल की है। बुमराह ने जिस तरह से सीरीज में बॉलिंग की है, वो अद्भुत है। मैं बुमराह का बहुत बड़ा फैन हूं। मैंने उनसे कई बार बात की है और मुझे उनके सोचने का तरीका बेहद पसंद है। सिराज ने भी बेहतरीन लेंथ पर बॉलिंग की। बल्लेबाजी में शुभमन गिल को अधिक देखने के लिए उत्साहित हूं। जब मैंने उन्हें खेलते देखा तो मुझे लगा कि वे इंटरनेशनल क्रिकेट के लिए ही बने हैं। नई बॉल से स्टार्क और कमिंस को खेलना कभी आसान नहीं होता। लेकिन गिल ने भारतीय टीम को अच्छी शुरुआत दी थी।

क्या विराट की गैरमौजूदगी भारतीय टीम को अधिक जिम्मेदार और मजबूत बनाती है?

तीसरा टेस्ट रोमांचक होगा क्योंकि सीरीज अब 1-1 से बराबर है। विराट के जाने से टीम पर असर तो पड़ा है। लेकिन ये अन्य खिलाड़ियों के लिए बड़ा मौका भी है। टीम के पास अच्छे खिलाड़ी हैं। आप कभी भी एक खिलाड़ी पर केंद्रित नहीं रह सकते। टीम के पास रहाणे, पुजारा जैसे क्वालिटी बल्लेबाज हैं।

रहाणे की कप्तानी को कैसे आंकते हैं? रोहित पर क्या कहना है?

रहाणे ने बल्लेबाजों के साथ-साथ गेंदबाजों काे भी सपोर्ट किया। उन्होंने चार स्लिप के साथ एक गली भी गेंदबाज को दी, जब स्मिथ बल्लेबाजी करने आए तो उन्होंने बुमराह को बुलाकर दबाव भी बनाया। उनकी कप्तानी कमाल की रही है और यही कारण है कि दूसरे टेस्ट में भारतीय अटैक ने असाधारण प्रदर्शन किया। वहीं, रोहित एक क्वालिटी बल्लेबाज हैं। हालांकि वे टेस्ट में ज्यादा कुछ हासिल नहीं कर पाए हैं। वे यहां पर बहुत कुछ हासिल करना चाहेंगे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today पूर्व ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज ग्लेन मैक्ग्रा